Monday, 20 May 2013

तुम सा गर हो साथी


रौनक दौड़ता हुआ आया और माँ को पकड़ कर गोल गोल घूमता हुआ बोला ,“माँ मै पास हो गया ! माँ तेरा बेटा आई ए एस बन गया । माँ आज पापा जरूर खुश हो जाएंगे वो हमेशा मुझसे नाराज रहते है , कि मै नालायक हूँ कुछ कर नहीं सकता ।“
“हाँ हाँ बेटा जरूर , तुमने आज खुशी ही ऐसी दी है ।“ सुमन जी खुशी से लरजते हुए बोलीं। “ बेटा तुमने आज हमारा जीवन सफल कर दिया ।“ उनकी आँखों से खुशी के आँसू निकल पड़े। आज उनका सपना साकार हो गया था । बस उन्होने यही चाहा था कि रौनक आई ए एस आफिसर बन जाय । रौनक सुमन और निखिलेश का इकलौता बेटा था । निखिलेश मल्टीनेशनल कंपनी मे एक्ज़ीक्यूटिव थे और अधिक तर विदेशों मे रहते थे इसलिए घर को समय नहीं दे पाते थे ,पर वो ये जानते थे की सुमन कैसी भी परिस्थिति को बड़ी कुशलता से संभाल लेती है । सुमन भी एक बालिका विद्यालय मे प्रधानाचार्या के पद पर कार्यरत थीं । रौनक के बाद उनकी दूसरी संतान नहीं हुई । रौनक पढ़ने मे बहुत तेज था लेकिन साथ ही बहुत शैतान भी  था। अपनी शैतानियों के बीच भी वो पढ़ने का समय निकाल लिया करता था । कक्षा मे हमेशा अव्वल आता था । एक बार अपने फाइनल एक्जाम के समय वो बीमार पड़ गया और परीक्षा नहीं दे पाया , और बहुत रोया , टीचर को उसकी परीक्षा लेनी ही पड़ी । ऐसा ही था वो कभी हार न मानने वाला । अपनी शरारतों के बावजूद अध्यापकों मे लोकप्रिय था ।
 आज उसकी मेहनत रंग लाई थी अपने मम्मी पापा का सपना पूरा किया था । रौनक के मित्र का फोन आ गया वह उसके साथ व्यस्त हो गया । निखिलेश उस समय इंडिया से बाहर थे, सुमन जी ने उन्हे फोन पर सूचना दी ,” सुनिए आज आपके बेटे ने कर दिखाया , आप नाहक ही कोसते रहते थे ।“ निखिलेश जी बोले, “ठीक है आज उसी का नतीजा सामने आया न ।” वे बोली ,”जी अब कब तक आ रहे हैं आप।“ “बस अभी लो ! तुम बस बाहर आकर गेट खोलो" निखिलेश ने चुटकी ली । “ अरे! क्या कह रहे है” सुमन जी अचंभित सी बोलीं । वे बोले, “बाहर आओ भी” सुमन दौड़ती हुई सी गेट की ओर भागी । सचमुच निखिलेश बाहर खड़े थे ।
अंदर आकर ज़ोर से कड़कती हुई आवाज मे बोले,” रौनक, मित्र मंडली से फुर्सत हुई हो तो नीचे आ जाओ ।“ रौनक किसी से फोन पर बात कर रहा था उसके हाथ से फोन छूटते बचा,” अरे पापा ! पापा आ गए।“ भागता हुआ आया। निखिलेश जी बड़ी गहन मुद्रा मे सोफ़े पर बैठे थे । सुमन जी चाय बना रहीं थी और सिर नीचे झुकाये थीं ।
 उसने सोचा ,” मारे गए पापा तो गुस्से मे लग रहे है।”
निखिलेश जी दुबारा बोले,” क्यों बरखुरदार क्या गुल खिलाये इस बार , पास वास हुए कि नहीं।”
खुशी से उछलते हुये रौनक पापा के पास पहुंचा ,” जी पापा इंडिया मे दसवां स्थान है ।“
 “अच्छा बता तो ऐसे रहे हो जैसे पहला स्थान मिला है ,” चेहरे पर आ रही हंसी को रोकते हुए निखिलेश जी बोले। इसी के साथ सुमन जी हंस पड़ीं।
“अब तो पार्टी होनी चाहिए” निखिलेश ने कहा । सुमन जी ने भी स्वीकृति दे दी । पर रौनक बोला ,” पापा !  इफ यू डोंट माइंड , मेरी ज्वाइनिंग के बाद पार्टी कर लेते है प्लीज़।“
 निखिलेश अचंभे से उसको देखने लगे, “ क्या ये हमारा ही रौनक है सुमन ! “
"जी पापा बिलकुल आपका ही रौनक है, बस पार्टी बाद मे दीजिएगा ।“
कुछ समय बाद उसकी ज्वाइनिंग हो गई और निखिलेश जी ने शानदार पार्टी दी । शहर के बड़े और नामी गिरामी लोगों ने शिरकत की ।
 सेठ आलोक नाथ जी शहर के सबसे बड़े वस्त्र व्यापारी थे। उनकी इकलौती बेटी थी शैलजा विदेश मे रह कर डाक्टरी पढ़ रही थी। आलोक नाथ जी ने निखिलेश जी से उसके रिश्ते की बात चलाई । निखिलेश जी को कोई एतराज न था पर उन्होने बेटे की इच्छा जानना जरूरी समझा । उन्होने आलोक नाथजी से कहा,” भाई हमे तो कोई आपत्ति नहीं है पर हम चाहते है कि दोनों बच्चे एक दूसरे को देख ले समझ लें तभी ठीक रहेगा ।"
“ हाँ हाँ !! क्यों नहीं? आज हमारा आपका जमाना थोड़े ही रहा । अगले हफ्ते शैलजा इंडिया आ रही है उसकी पढ़ाई पूरी हो गई है । आप तभी कोई सही मौका देख ये काम करा लीजिये,“ आलोक नाथ जी बोले ।
सुमन जी सोचने लगीं ,” कहीं ऐसा न हो जल्दबाज़ी मे हम कोई गलत निर्णय ले बैठें।“
अगले हफ्ते शैलजा इंडिया आ गई । आलोक नाथ जी ने देखने का कार्यक्रम अपने घर पर ही रखा । शैलजा ने ही अपने घर मे मेहमानों की आवभगत की बागडोर संभाल रखी थी । क्योंकि शैलजा की माँ नहीं थीं । कुछ औपचारिक बातों के बाद निखिलेश जी ने आलोक जी से बोले ,”भाई अब हम बूढ़े बैठ कर बातें करते हैं और बच्चों को अकेले थोड़ी देर एक दूसरे को समझने का मौका दिया जाय ,क्यों आलोक आपका क्या ख्याल है?”
  जी बिलकुल ” आलोक जी ने कहा ।
शैलजा और रौनक बाहर बगीचे मे जाकर बैठ गए । शैलजा ने पूछा ,”आपका अभी अभी प्रशासनिक सेवा मे चयन हुआ है किस शहर मे नियुक्त हुये है ।” रौनक शैलजा के शुद्ध हिन्दी मे बात करने से काफी प्रभावित हुआ बोला ,”कानपुर मे । आपकी हिन्दी तो बहुत अच्छी है ।“
शैलजा ने कहा, “धन्यवाद , हिंदुस्तानी हूँ हिन्दी तो अच्छी होनी ही चाहिए, वैसे भी मै दिखावे की ज़िंदगी और तौर तरीकों को कम पसंद करती हूँ।“
“ओह ! गुड , आपकी पढ़ाई भी अब खत्म हो गयी है आपका क्या इरादा है यहाँ इंडिया मे रहेंगी या फिर वापस लौट जाएंगी“ रौनक ने पूछा ।
शैलजा ने कहना शुरू किया,” मैंने डाक्टरी की पढ़ाई विदेश मे रह कर अधिक धन कमाने के लिए नही की है । मुझे अपने देश मे रह कर उन लोगों के लिए कुछ करना है एक ऐसा उच्चस्तरीय अस्पताल बनाना है जहां हर तबके के लोगों का इलाज हो खास कर उन लोगों का जो किसी कारण वश इलाज के अभाव मे या तो दम तोड़ देते हैं या कई बार ऐसा भी होता है पैसे की कोई कमी नहीं होती लेकिन उचित और उच्चस्तरीय सुविधायें न मिल पाने के कारण भी मरीजों को बचाया नहीं जा पाता है।"
 "बहुत ही अच्छा ख्याल है आपका , इससे काफी लोगों का भला होगा" रौनक प्रभावित होते हुए बोला । शैलजा ने गहरी सांस ली फिर कुछ  सोच कर उसकी अंखे भर आयीं ।
रौनक ने कहा ," कोई बात है आप अगर मुझे बताना चाहे तो बता दें ।"
 शैलजा ने खुद को संयत किया और बोली,"  मुझे आज भी वो दिन याद है जब मेरी माँ मुझे छोड़ कर चली गईं थीं सदा के लिए, उनकी मौत कैंसर से हुई थी। पापा के पास पैसे की कोई कमी नहीं है फिर भी हम माँ को बचा नहीं पाये। उच्च्स्तरीय इलाज के लिए डाक्टर्स ने उन्हे विदेश ले जाने को कहा क्योंकि वहाँ पर उनका इलाज संभव था लेकिन जब तक हम उन्हे ले जा पाते वे ही चल दीं थीं । उनका दर्द उनका छटपटाना जब याद आता है तो मन मे ये इच्छा और बलवती हो जाती है कि इलाज के बिना अब कोई माँ अपने बच्चों से न रूठे । इसलिए मैंने डाक्टरी पढ़ी है और अब यहाँ ही अस्पताल खोलूँगी जिसमे सभी सुविधायें होंगी हर संभव इलाज मुहैया कराया जा सके इस बात का पूरा ख्याल रखा जाएगा ।  जिससे पापा भी खुश रहेगे और मुझे भी संतुष्टि रहेगी कि पापा अकेले नहीं है। इसलिए मै ऐसे लड़के से ही शादी करना चाहती हूँ जो मेरा साथ दे मेरी भावनाओं को समझे । " रौनक शैलजा की बातों से बेहद प्रभावित हुआ पर उसने शैलजा से कुछ कहा नहीं। धीरे से उठा और बोला, "चलिये अब काफी देर हो गई है मां पापा इंतजार कर रहे होंगे।" उसके इस तरह उठ आने को शैलजा ने नकारात्मक उत्तर समझा। अंदर आने पर सुमन जी ने आँखों से इशारे ही इशारे मे पूछ लिया। उसने हाँ मे सिर हिला दिया , खुशी से निखिलेश जी ने आलोक जी को गले लगाया बोले ,"भाई अब तो हम समधी हो गए।" आलोक जी की आँखों मे खुशी के आँसू छलक आए।  रौनक ने शैलजा की ओर देखा शैलजा ने सिर झुका लिया मानो एक दूसरे से कह रहे हो "तुम सा गर हो साथी" ।
                

12 comments:

  1. bahut acchi kahani...sakaratmak sooch deti hui

    ReplyDelete
  2. अन्नपूर्णा जी बहुत ही सुन्दर कहानी रची है आपने! मेरी बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार बृजेश जी ।

      Delete
  3. आदरेया आपकी यह कहानी निर्झर टाइम्स पर 'विधाओं की बहार...' में संकलित की गई है।
    कृपया http://nirjhar.times.blogspot.com पर अवलोकन करें।आपकी प्रतिक्रिया सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  4. आदरेया आपकी यह कहानी निर्झर टाइम्स पर 'विधाओं की बहार...' में संकलित की गई है।
    कृपया http://nirjhar.times.blogspot.com पर अवलोकन करें।आपकी प्रतिक्रिया सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  5. आदरेया आपकी यह कहानी निर्झर टाइम्स पर 'विधाओं की बहार...' में संकलित की गई है।
    कृपया http://nirjhar.times.blogspot.com पर अवलोकन करें।आपकी प्रतिक्रिया सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  6. आपकी यह रचना कल रविवार (26 -05-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  7. nice story....you write beautifully

    ReplyDelete